100% Satisfaction
सरकार द्वारा प्रमाणित 301/11

तुतलाना बीमारी नहीं बुरी आदत है। इसमें व्यक्ति बोलते समय शब्दों ओ अक्षरों का उच्चारण गलत करते हैं। इसमें भी कोई 1 दिन, 2 दिन या रोज़ आकर एक घंटा स्पीच थैरेपी से इलाज नहीं हो सकता है।

हर बच्चा छोटी उम्र में ही तुतलाकर बोलता है तथा उसकी ज़ुबान अंदाज़े से उच्चारण पर जाती है तथा धीरे-धीरे उम्र बढ़ने के साथ-साथ सही बोलने लगता है व घर के लोग उसको बोलना सीखा देते हैं और जो बच्चे नहीं सीख पाते हैं, उन्हें तुतलाकर बोलने की आदत हो जाती है।

जब बच्चा बड़ा होता है, वह अपनी तोतली आवाज़ के कारण हीन भावना का शिकार हो जाता है और उसका आत्मविश्वास भी काफी कमज़ोर हो जाता है।

व्यक्ति जिस अक्षर को तुतलाकर बोलता है, उस अक्षर को वह छिपाना चाहता है। उस अक्षर से उसको डर लगने लगता है तथा समस्या और बढ़ जाती है।

ईलाज: हमारे सेन्टर में तुतलाने का 100% सफल ईलाज किया जाता है। इसमें स्पीच थैरेपी के आधार पर प्रैक्टिस से ईलाज होता है। बच्चा या व्यक्ति पहले दिन से ही ठीक होने लग जाता है।