100% Satisfaction
सरकार द्वारा प्रमाणित 301/11

क्या हकलाना 100% ठीक हो सकता है?

हकलाना एक साइकोलोजिकल समस्या एवं बुरी आदत है, इस समस्या को हमारे यहाँ पर 100% संतुष्टिपूर्वक ठीक करके ही भेजा जाता है, इसमें वो ही व्यक्ति पूर्ण रूप से ठीक हो सकता है जो पूरा कोर्स करता है, हमारी गारन्टी होती है की आपको पूरा ठीक करके ही भेजा जाता है चाहे ज्यादा समय भी लगे।

हमारे यहाँ भारत की किसी भी स्पीच थैरेपी की तुलना में कम फीस होती है एवं ज्यादा से ज्यादा समय तक थैरेपी दी जाती है।

कुछ स्पीच थैरेपी सेन्टर में 5-10 दिन में आपको ठीक करने का दावा किया जाता है। आप स्वयं सोचें कि इतने सालों की समस्या को इतने कम समय में कैसे ठीक किया जा सकता है?

यह आप हकलाहट से पूर्णतया मुक्त होना चाहते हैं तो पूरा कोर्स करना पड़ता है। इसमें रोज़ आना पड़ता है और सेंटर में रुकने से इसका माहौल मिलता है। इससे व्यक्ति जल्दी ठीक हो जाता है। इसका इलाज हमारे सेन्टर में 100% किया जाता है।

हकलाने के कारण:

  • ज्यादातर हकलाना तब शुरू होता है जब बच्चा बोलना सीखता है।
  • तेज बोलने की आदत से
  • अचानक धारीरिक और मानसिक हादसा होने से
  • दूसरे हकलाने वाले की नक़ल करने से
  • किसी दुर्घटना के डर से
  • बोलने एवं सोचने के बीच तालमेल नहीं होने से
  • परिवार वाले या अध्यापकों के डांटने के दर से
  • कोई डरावनी फिल्म या दृश्य देखने से
  • ये आनुवंशिकी में भी होता है, जिनमे परिवार में को हकला होने पर
  • किसी तनाव या ज्यादा मानसिक दबाव से

हकलाने की समस्या बढ़ जाती है जब:

  • अचानक किसी को जवाब देने पर
  • अजनबी व्यक्तियों से बात करने पर
  • किसी टेंशन या दबाव में होने पर
  • टिकट खिड़की, पूछताछ एवं इंटरव्यू में
  • भीड़-भाड़ वाले इलाके में बात करने पर
  • गुस्से एवं झगड़ने पर
  • घबराहट एवं बीमार होने पर

हकलाना कम हो जाता है:

  • जब आप खुश एवं रिलैक्स हों।
  • दोस्तों व अपने करीबियों से बात करने पर।
  • छोटे बच्चों एवं घरवालों से बात करने पर।
  • अकेले में बात करने पर।
  • गाना गाते समय हकलाना बिलकुल नहीं होता है।

हमारी विशेषतायें:

  • पहले दिन से 60-70 प्रतिशत हकलाना कम हो जायेगा।
  • यहाँ से ठीक होकर गए लोगों का नाम, पता व नम्बर ले सकते हैं।
  • 100% गारंटेड समस्या का समाधान।
  • कोर्स के बाद निःशुल्क सेवा।
  • हमारा कोर्स नई तकनीकी पर आधारित है।
  • हर व्यक्ति पर पूरा ध्यान दिया जाता है।
  • आपको 100% ठीक करके ही भेजा जाता है।
  • यहाँ समस्या के अनुसार प्रैक्टिस होती है।
  • अनाथ एवं बेसहारा लोगों के लिए इलाज।
  • इस कोर्स का समय अलग-अलग होता है। यह साइकोलॉजिकल लेवल पर दिरभर करता है। यह 7 दिन, 15 दिन एवं 1 महीने का होता है।

फीस

हमारे यहाँ हकलाने की समस्या की फीस भारत के किसी भी स्पीच थैरेपी की तुलना में काफी कम है। आप चाहे कहीं पर भी पता कर सकते हैं।

  • थैरेपी की फीस समस्या के आधार पर होती है:
    1000 से 10,000 रूपये (Complete course with lifetime free support & 100% satisfaction guarantee)
  • बाहर के लोगों के लिए रहना/खाना 150 रूपये प्रतिदिन (दो टाइम खाना /नाश्ता/ चाय)।